राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के 9 दिवसीय वृक्षारोपण महाअभियान का समापन 1 लाख से ज्यादा पौधों का हुआ वितरण 18 हजार से ज्यादा पौधे लगाये गये 17 हजार 566 स्थानों पर पौधारोपण

राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के 9 दिवसीय वृक्षारोपण महाअभियान का समापन 1 लाख से ज्यादा पौधों का हुआ वितरण 18 हजार से ज्यादा पौधे लगाये गये  17 हजार 566 स्थानों पर पौधारोपण
  • District : dipr
  • Department :
  • VIP Person :
  • Press Release
  • State News
  • Attached Document :

    RK-23-08-2020-1.docx

Description

राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के 9 दिवसीय वृक्षारोपण महाअभियान का समापन
1 लाख से ज्यादा पौधों का हुआ वितरण
18 हजार से ज्यादा पौधे लगाये गये 
17 हजार 566 स्थानों पर पौधारोपण

जयपुर, 23 अगस्त। राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा सम्पूर्ण राज्य में 15 अगस्त से आरम्भ हुआ 9 दिवसीय वृक्षारोपण महाअभियान रविवार को जोधपुर जिले में सम्पन्न हुआ। महाअभियान के दौरान सम्पूर्ण राजस्थान में कुल 17 हजार 566 स्थानों पर पौधारोपण हुआ तथा 18 हजार 464 पौधे लगाये गये। साथ ही पौधा वितरण केन्द्रों के माध्यम से 1 लाख 26 हजार 284 पौधे वितरित भी किये गये।

वृक्षारोपण महाअभियान के समापन समारोह में राजस्थान उच्च न्यायालय के प्रशासनिक न्यायाधीश व राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष श्री संगीत राज लोढा, रा0उ0 न्यायालय विधिक सेवा समिति, जोधपुर के अध्यक्ष न्यायाधिपति श्री संदीप मेहता, न्यायाधिपति श्री विजय विश्नोई प्रभारी मध्यस्थता केन्द्र एवं राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधिपतिगण उपस्थित थे। कार्यक्रम में सभी न्यायाधिपतिगणों द्वारा पर्यावरण संरक्षण तथा बालिका शिक्षा के स्लोगल युक्त गुब्बारों आकाश में छोड़े गये।

कुल 9 दिन चले वृक्षारोपण अभियान के दौरान समस्त जिलों में तालुका स्तर से लेकर जिला मुख्ययालय स्तर तक पौधारोपण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। मुख्यत न्यायालय परिसरों, लीगल सर्विसेज क्लिनिक, स्थानीय निकाय, पंचायत समिति, ग्राम पंचायत, राजकीय कार्यालयों, जेल आश्रय-गृह इत्यादि स्थानों पौधारोपण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया एवं विभिन्न स्थानों पर पौधा वितरण केन्द्रों की स्थापना की जाकर आमजन को अभियान से जोेड़ने का सफल प्रयास किया गया। पौधारोपण से आमजन को जोड़ने हेतु नीवन माध्यम अपनाते हुए राजस्थान जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के हेल्पलाइन नम्बर पर मिस्ड काल कर उन्हें जोड़ने का तरीका अपनाया गया। 

----

Supporting Images